श्री कृष्णा डायलॉग Shree Krishna Dialogue in Hindi

Also Read

Shree Krishna Dialogue in Hindi

Sri Krishna is an Indian television series created written and directed by Dr Ramanand Sagar. Sri Krishna is an adaptation of the stories of the life of Lord Krishna based on Bhagavat Puran, Brahma Vaivart Puran, Hari Vamsa, Vishnu Puran, Padma Puran, Garga Samhita, Bhagavad Gita & Mahabharat.

Shree Krishna Dialogue in Hindi


"हे बालिके
इंद्र से जाकर कहना
के स्वर्ग के सारे सुख नश्वर हैं
आज हैं
तो कल नहीं रहेगा
जिस तरह से
इंद्र के पद पर
सदैव एक इंद्र ही नहीं बैठा रहता
उसी तरह वहाँ के सुख और वैभव भी
क्षण भंगुर ही होते हैं
हम जिस आनंद के सहारे यहाँ बैठे हुए हैं
उसका पता
भला इंद्र को लग भी कैसे सकता है।"
=====================================

"मैं तो केवल प्रेम के वश में हूँ
जहां मेरा प्रेमी मुझे बुलाएगा
मैं वहीं हूँ
वास्तव में मैं तो सब जगह हूँ
केवल दिखता नहीं
जैसे अंधकार में वहीं पड़ी हुई कोई वस्तु
दिखाई नहीं देती
और दीपक जलते ही
वो वस्तु दिखाई देती है
उसी प्रकार
यदि मुझे देखना हो
तो केवल प्रेम और भक्ति का दीपक जलाओ
मुझे वहीं खड़ा पाओगे
यही परम ज्ञान है।"
=====================================

"मनुष्य के द्रिड़ निश्च्य के आगे
कुछ भी असम्भव नहीं रहता पार्थ
जब भी कोई जीव
द्रिड़ संकल्प होकर
एक द्रिड़ विश्वास के साथ
किसी भी काम का बीड़ा उठता है
तो देव्य शक्तियों को
उसकी सहायता के लिए स्वयं ही आना पड़ता है
यही कर्म का
दैवी विधान है अर्जुन।"
======================================

"किसी ने ये सोचा है
कि दो महान राज्य हैं
उनको अपने अधीन करना
परम दुष्कर कार्य है
एक है हस्तिनापुर
और दूसरा मग़ध
क्या ये दोनों महान शक्तियाँ
सहज में ही आपकी अधीनता स्वीकार कर लेंगी
इस परिस्थिति में जहाँ हमारा कार्य नीति से चल जाए
वहाँ हमें नीति का ही सहारा लेना होगा
और जहाँ युद्ध अपरिहार्य हो
वहाँ हमें पूरी शक्ति के साथ आक्रमण करना होगा
यही राजनीति है महाराज।"
==========================================

भाई भाई में
दरार पैदा करने की कुटिल चाल
शकुनि ने
कौरव और पांडवों में चली थी
और आज फिर
उसने वही चाल कृष्ण और बलराम के साथ चली है
उन्होंने ऐसा पाँसा फेंका है
की बलराम भैया ने
दुर्योधन को अपना शिष्य बना लिया है
और मेरे भोले भले दाऊ भैया
उसकी बातों में आकर
उसकी चाल में फँस गए हैं रुक्मिणी
=========================================

क्षमा माँगने से मित्रता के रिश्ते को लाज लगती है
क्योंकि मित्रता की पहचान यही है की यदि
एक मित्र धोखा भी दे तो भी दूसरा उसे
मित्रता की पहचान समझकर उस धोखे
को हँसके स्वीकार कर ले
अरे यदि दोनों एक दूसरे के लिए
अच्छे अच्छे रहेंगे तो मित्रता की पहचान
कब होगी मित्र बने हो तो मित्र की अच्छाई
बुराई सब भूल जाओ
केवल मित्र बने रहो बस केवल मित्र
=========================================

राधे माया की ऐसी शक्ति नहीं कि वो हमारे भक्तों के साथ खेल सके
कोटि जन्मों की तपस्या और पुण्यों के कारण यशोदा को हमारी माता बन कर
हमारी बाल लीला का आनंद पाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है
माता के वात्सल्य का ऋण चुकाने के लिए अपनी सृष्टि का ये विराट स्वरूप
जो आज हमने यशोदा मैया को दिखाया है आजतक इस धरती के किसी मानव को नहीं दिखाया
इसलिए हमारे इशारे पर योग माया ने फिर से उनकी आत्मा पर मोह का पर्दा डाल दिया है।
================================================


देखो राधे ये सब जो ग्वालिनें हैं ये अपने पिछले जन्मों में
बड़े बड़े योगी सिद्ध और तपस्वी थे
जिन्होंने जनम जन्मांतर घोर तपस्या करके हमारे साथ ममता का रिश्ता माँगा था
इन सब की कामना थी की हमारी माता बने एक जनम में कितनी माँओं को सम्भालूँ
पहले से ही दो माताओं में बँटा हुआ हूँ सो हमारे प्रति इनकी ममता और स्नेह की प्यास भजने के लिए
योग माया ने इन्हें ग्वालिनों के रूप में गोकुल भेज कर इनकी अंगतरंग इच्छा पूर्ण कर दी है।
===========================================================

देखो राधे प्रेम किसी दूसरे से किया जाता है
हममें दूसरा कौन है हम दोनों तो एक ही हैं
जैसे दूध में सफ़ेदी और आग में गर्मी होती है
जैसे धरती से गंध और जैसे नदी से नदी की लहरें अलग नहीं होती
ऐसे ही हम और तुम दोनों एक हैं हममें कोई भेद नहीं।
===============================================

देखो राधे जैसे आत्मा के बिना शरीर मृत होता है
वैसे ही शरीर के बिना आत्मा भी नहीं देखी जा सकती
ऐसे ही हमारे बिना तुम निर्जीव हो और तुम्हारे बिना हम अदृश्य हैं
आत्मा और शरीर की एकता के बिना ये सृष्टि कैसे चल सकती है।
===============================================
गीता सार Geeta Saar
रामायण डायलॉग Ramayan Dialogue Status
रामायण डायलॉग Ramayan Dialogue Status Part 1

Shree Krishna Dialogue in English


"he baalike
indr se jaakar kahanaa
ke svarg ke saare sukh nashvar hain
aaj hain
to kal naheen rahegaa
jis tarah se
indr ke pad par
sadaiv ek indr hee naheen baiṭhaa rahataa
usee tarah vahaan ke sukh aur vaibhav bhee
kṣaṇa bhngur hee hote hain
ham jis aannd ke sahaare yahaan baiṭhe hue hain
usakaa pataa
bhalaa indr ko lag bhee kaise sakataa hai."
=====================================

"main to keval prem ke vash men hoon
jahaan meraa premee mujhe bulaa_egaa
main vaheen hoon
vaastav men main to sab jagah hoon
keval dikhataa naheen
jaise andhakaar men vaheen padee huii koii vastu
dikhaa_ii naheen detee
aur deepak jalate hee
vo vastu dikhaa_ii detee hai
usee prakaar
yadi mujhe dekhanaa ho
to keval prem aur bhakti kaa deepak jalaa_o
mujhe vaheen khadaa paa_oge
yahee param gyaan hai."
=====================================

"manuṣy ke drid nishchy ke aage
kuchh bhee asambhav naheen rahataa paarth
jab bhee koii jeev
drid snkalp hokar
ek drid vishvaas ke saath
kisee bhee kaam kaa beedaa uṭhataa hai
to devy shaktiyon ko
usakee sahaayataa ke lie svayn hee aanaa padtaa hai
yahee karm kaa
daivee vidhaan hai arjun."
======================================

"kisee ne ye sochaa hai
ki do mahaan raajy hain
unako apane adheen karanaa
param duṣkar kaary hai
ek hai hastinaapur
aur doosaraa magadh
kyaa ye donon mahaan shaktiyaan
sahaj men hee aapakee adheenataa sveekaar kar lengee
is paristhiti men jahaan hamaaraa kaary neeti se chal jaa_e
vahaan hamen neeti kaa hee sahaaraa lenaa hogaa
aur jahaan yuddh aparihaary ho
vahaan hamen pooree shakti ke saath aakramaṇa karanaa hogaa
yahee raajaneeti hai mahaaraaj."
==========================================

bhaa_ii bhaa_ii men
daraar paidaa karane kee kuṭil chaal
shakuni ne
kaurav aur paanḍaavon men chalee thee
aur aaj fir
usane vahee chaal kriṣṇa aur balaraam ke saath chalee hai
unhonne aisaa paansaa fenkaa hai
kee balaraam bhaiyaa ne
duryodhan ko apanaa shiṣy banaa liyaa hai
aur mere bhole bhale daa_oo bhaiyaa
usakee baaton men aakar
usakee chaal men fns ga_e hain rukmiṇaee
=========================================

kṣamaa maangane se mitrataa ke rishte ko laaj lagatee hai
kyonki mitrataa kee pahachaan yahee hai kee yadi
ek mitr dhokhaa bhee de to bhee doosaraa use
mitrataa kee pahachaan samajhakar us dhokhe
ko hnsake sveekaar kar le
are yadi donon ek doosare ke lie
achchhe achchhe rahenge to mitrataa kee pahachaan
kab hogee mitr bane ho to mitr kee achchhaa_ii
buraa_ii sab bhool jaa_o
keval mitr bane raho bas keval mitr
=========================================

raadhe maayaa kee aisee shakti naheen ki vo hamaare bhakton ke saath khel sake
koṭi janmon kee tapasyaa aur puṇayon ke kaaraṇa yashodaa ko hamaaree maataa ban kar
hamaaree baal leelaa kaa aannd paane kaa saubhaagy praapt huaa hai
maataa ke vaatsaly kaa rriṇa chukaane ke lie apanee sriṣṭi kaa ye viraaṭ svaroop
jo aaj hamane yashodaa maiyaa ko dikhaayaa hai aajatak is dharatee ke kisee maanav ko naheen dikhaayaa
isalie hamaare ishaare par yog maayaa ne fir se unakee aatmaa par moh kaa pardaa ḍaal diyaa hai.
================================================


dekho raadhe ye sab jo gvaalinen hain ye apane pichhale janmon men
bade bade yogee siddh aur tapasvee the
jinhonne janam janmaantar ghor tapasyaa karake hamaare saath mamataa kaa rishtaa maangaa thaa
in sab kee kaamanaa thee kee hamaaree maataa bane ek janam men kitanee maanon ko sambhaaloon
pahale se hee do maataa_on men bnṭaa huaa hoon so hamaare prati inakee mamataa aur sneh kee pyaas bhajane ke lie
yog maayaa ne inhen gvaalinon ke roop men gokul bhej kar inakee angatarng ichchhaa poorṇa kar dee hai.
===========================================================

dekho raadhe prem kisee doosare se kiyaa jaataa hai
hamamen doosaraa kaun hai ham donon to ek hee hain
jaise doodh men saphaedee aur aag men garmee hotee hai
jaise dharatee se gndh aur jaise nadee se nadee kee laharen alag naheen hotee
aise hee ham aur tum donon ek hain hamamen koii bhed naheen.
===============================================

dekho raadhe jaise aatmaa ke binaa shareer mrit hotaa hai
vaise hee shareer ke binaa aatmaa bhee naheen dekhee jaa sakatee
aise hee hamaare binaa tum nirjeev ho aur tumhaare binaa ham adrishy hain
aatmaa aur shareer kee ekataa ke binaa ye sriṣṭi kaise chal sakatee hai.
===============================================